BEST CYBER CRIME LAWYERS IN DELHI

Cyber Crime Kya Hai in Hindi

साइबर अपराध क्या है? पूरी जानकारी

Cyber Crime Kya Hai in Hindi
Cyber Crime Kya Hai in Hindi

साइबर अपराध एक सामान्य शब्द है जो कंप्यूटर, नेटवर्क या डिजिटल उपकरणों के किसी अन्य सेट का उपयोग करके की जाने वाली असंख्य आपराधिक गतिविधियों का वर्णन करता है। साइबर अपराध को साइबर अपराधियों द्वारा की जाने वाली व्यापक अवैध गतिविधियों पर एक छत्रछाया मानें। इनमें हैकिंग, फ़िशिंग, पहचान की चोरी , रैंसमवेयर और मैलवेयर हमले समेत कई अन्य शामिल हैं।

साइबर अपराध की पहुंच की कोई भौतिक सीमा नहीं है। अपराधी, पीड़ित और तकनीकी बुनियादी ढाँचा दुनिया भर में फैला हुआ है। व्यक्तिगत और उद्यम दोनों स्तरों पर सुरक्षा कमजोरियों का फायदा उठाने के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग के साथ, साइबर अपराध कई आकार लेता है और लगातार विकसित होता है। बदले में, साइबर अपराधों की प्रभावी ढंग से जांच करने, मुकदमा चलाने और रोकने की क्षमता कई गतिशील चुनौतियों के साथ एक सतत लड़ाई है।

साइबर अपराध व्यक्तियों, व्यवसायों और सरकारी संस्थाओं के लिए एक गंभीर खतरा पैदा करता है और इसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण वित्तीय हानि, क्षतिग्रस्त प्रतिष्ठा और समझौता किए गए रिकॉर्ड हो सकते हैं। जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी आगे बढ़ रही है और अधिक लोग मानक संचालन के लिए डिजिटल उपकरणों और नेटवर्क पर भरोसा कर रहे हैं, साइबर अपराध का खतरा लगातार बढ़ रहा है, जिससे इससे बचाव के लिए कदम उठाना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।आज की दुनिया में इंटरनेट हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है, और जहाँ इंटरनेट के कई फायदे हैं, वहीं इसके कई जोखिम भी हैं। सबसे महत्वपूर्ण खतरों में से एक Cyber Crime है। साइबर अपराध किसी भी अवैध गतिविधि को संदर्भित करता है जो कंप्यूटर या इंटरनेट का उपयोग करके किया जाता है। हमारे देश में आज भी बहुत से लोग ऐसे है जिनको इस प्रकार के अपराधों की जानकारी नहीं होती और वे Online Fraud का शिकार हो जाते है। इसलिए आज के लेख में हम साइबर अपराध के बारे में विस्तार से जानेंगे की साइबर क्राइम क्या होता है? ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) से कैसे बचे? साइबर क्राइम कितने प्रकार के होते है? Cyber Crime का शिकार होने पर क्या करें (helpline number & complaint online)?
यह एक ऑनलाइन अपराध (Online Crime) है जो इंटरनेट या डिजिटल उपकरणों का उपयोग करके किया जाता है। इसमें ऑनलाइन धोखाधड़ी, चोरी, जासूसी, वायरस और अन्य अपराध शामिल हो सकते हैं।

यह आमतौर पर कंप्यूटर सिस्टम, नेटवर्क और इंटरनेट संबंधी सुरक्षा में समस्या उत्पन्न करता है, जो उपयोगकर्ताओं को प्रभावित कर सकते हैं और उनकी गोपनीय जानकारी को चोरी कर सकते हैं।

साइबर क्राइम उदाहरणों में इंटरनेट बैंकिंग फ़्रॉड, सोशल मीडिया खातों में उलझन, फिशिंग, मलवेयर, रैंसमवेयर और ऑनलाइन शोषण शामिल हो सकते हैं।

साइबर क्राइम कितने प्रकार के होते है – Type of Cyber Crime in Hindi

 

मैलवेयर (Malware):- दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर (Malicious Software) के लिए मैलवेयर छोटा वायरस है, और यह किसी भी प्रोग्राम या कोड़ को संदर्भित करता है जिसे आपके कंप्यूटर या नेटवर्क को नुकसान पहुंचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। मैलवेयर वायरस, वर्म्स, ट्रोजन या रैंसमवेयर का रूप ले सकता है। फ़िशिंग ईमेल या संक्रमित वेबसाइटों के माध्यम से आपके कंप्यूटर पर मैलवेयर डाउनलोड (Malware download) किया जा सकता है।

फ़िशिंग:- फ़िशिंग एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग इन अपराधियों द्वारा आपको संवेदनशील जानकारी जैसे लॉगिन क्रेडेंशियल (Login Credentials), क्रेडिट कार्ड नंबर या सामाजिक सुरक्षा नंबर देने के लिए किया जाता है। फ़िशिंग ईमेल किसी बैंक, सरकारी एजेंसी या प्रसिद्ध कंपनी के वैध ईमेल की तरह दिखने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।
पहचान की चोरी:- पहचान की चोरी तब होती है जब कोई आपकी व्यक्तिगत जानकारी जैसे आपका नाम, सामाजिक सुरक्षा नंबर, या क्रेडिट कार्ड की जानकारी चुराता है और इसका उपयोग धोखाधड़ी गतिविधियों के लिए करता है। यह फ़िशिंग ईमेल या डेटा उल्लंघनों के माध्यम से हो सकता है।

डिनायल ऑफ़ सर्विस (DoS) हमले:- DoS हमले तब होते हैं जब कोई Cyber Criminal किसी नेटवर्क या वेबसाइट को ट्रैफ़िक से भर देता है, जिससे वह दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है या दुर्गम हो जाता है। इस प्रकार के हमले का उपयोग अक्सर जबरन वसूली के रूप में किया जाता है, जिसमें हमलावर हमले को रोकने के लिए भुगतान की मांग करता है।

साइबर स्टाकिंग:- साइबर स्टाकिंग (Cyber Stalking) तब होती है जब कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को परेशान करने या धमकी देने के लिए इंटरनेट का उपयोग करता है। यह अवांछित संदेश या ईमेल भेजने, किसी के बारे में गलत जानकारी पोस्ट करने, या नकली सोशल मीडिया अकाउंट बनाने का रूप ले सकता है।

Cyber Crime का शिकार होने पर क्या करें?

civil lawyerयदि आप Online Fraud or Cyber Crime के शिकार हो जाते है तो आपको स्वयं को बचाने और घटना की रिपोर्ट करने के लिए कई कदम उठाने चाहिए:-

अपने उपकरणों को सुरक्षित करें:- किसी भी हैक किए गए डिवाइस को और नुकसान से बचाने के लिए इंटरनेट से तुरंत डिस्कनेक्ट करें। उन सभी ऑनलाइन खातों के लिए अपना पासवर्ड बदलें, जिनके साथ छेड़छाड़ की गई हो सकती है, और जहाँ भी संभव हो दो-कारक प्रमाणीकरण सक्षम करें।

घटना की रिपोर्ट करें:- अपनी स्थानीय कानून प्रवर्तन एजेंसी से संपर्क करें और पुलिस रिपोर्ट दर्ज करें। साथ ही, यदि वित्तीय धोखाधड़ी शामिल थी, तो संबंधित संगठनों या कंपनियों, जैसे आपके बैंक या क्रेडिट कार्ड कंपनी को घटना की रिपोर्ट करें।

सबूत इकट्ठा करें:- घटना से संबंधित सभी सबूतों का रिकॉर्ड रखें, जिसमें स्क्रीनशॉट, ईमेल और चैट लॉग शामिल हैं। यह जानकारी कानून प्रवर्तन या अन्य संगठनों को प्रदान करने के लिए उपयोगी होगी।

क्रेडिट ब्यूरो से संपर्क करें:- यदि घटना में पहचान की चोरी शामिल है, तो तीन प्रमुख क्रेडिट ब्यूरो (एक्सपेरियन, इक्विफैक्स और ट्रांसयूनियन) में से एक से संपर्क करें और अपनी क्रेडिट रिपोर्ट पर धोखाधड़ी की चेतावनी दें।

पेशेवर मदद लें:- साइबर सुरक्षा पेशेवर या कानूनी सलाहकार (Legal Advisor) से परामर्श करने पर विचार करें ताकि आपको Online Fraud के बाद के परिणामों को नेविगेट करने और अपनी व्यक्तिगत जानकारी की रक्षा करने में मदद मिल सके।

भविष्य की घटनाओं से खुद को बचाएं:- सतर्क रहें और भविष्य में होने वाले आनलाइन फ्राड़ से खुद को बचाने के लिए सक्रिय उपाय करें। इसमें आपके डिवाइस और सॉफ़्टवेयर को नियमित रूप से अपडेट करना, संदेहास्पद ईमेल और लिंक से बचना और ऑनलाइन आपकी व्यक्तिगत जानकारी से सावधान रहना शामिल हो सकता है।

साइबर क्राइम की शिकायत कहाँ और कैसे करें?

 

अपने बैंक या क्रेडिट कार्ड कंपनी को सूचित करें:- अगर आपके बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड से फ्रॉड किया गया है, तो तुरंत अपने बैंक या क्रेडिट कार्ड कंपनी को सूचित करें। उन्हें आपकी समस्या के साथ संबंधित विवरण और संदर्भ नंबर जैसी जानकारी देनी होगी।
ऑनलाइन शिकायत करें:- आप अपनी शिकायत को भारत सरकार की ऑनलाइन शिकायत पोर्टल या निम्नलिखित वेबसाइटों के माध्यम से भी दर्ज कर सकते हैं:
National Cyber Crime Reporting Portal (https://cybercrime.gov.in/)
Reserve Bank of India’s Sachet (https://sachet.rbi.org.in/Home/Index)
Indian Computer Emergency Response Team (https://www.cert-in.org.in/s2cMainServlet?pageid=PUBHL)

ऑनलाइन अपराध निवारण केंद्र से संपर्क करें:- भारत सरकार द्वारा संचालित ऑनलाइन अपराध निवारण केंद्रों से संपर्क करके आप भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।

स्थानीय पुलिस से संपर्क करें:- अगर आपको किसी अन्य ऑनलाइन फ्रॉड की शिकायत (Online Fraud complaint) है, तो आप अपनी स्थानीय पुलिस (Local police) से संपर्क करके शिकायत कर सकते है।

Cyber Crime से बचने / रोकथाम के लिए उपाय

 

https://bestcybercrimelawyer.in/मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें:- अपने प्रत्येक ऑनलाइन खाते के लिए जटिल और अद्वितीय पासवर्ड का उपयोग करें। एक मजबूत पासवर्ड कम से कम 12 वर्णों का होना चाहिए और इसमें अपरकेस और लोअरकेस अक्षरों, संख्याओं और प्रतीकों का मिश्रण होना चाहिए।

अपने सॉफ़्टवेयर को अप-टू-डेट रखें:- यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके पास नवीनतम सुरक्षा पैच हैं, अपने ऑपरेटिंग सिस्टम, वेब ब्राउज़र और अन्य सॉफ़्टवेयर को नियमित रूप से अपडेट करें।

टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का उपयोग करें:- अपने सभी ऑनलाइन खातों पर टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन सक्षम करें, जो पहचान के दूसरे रूप की आवश्यकता के द्वारा सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करता है, जैसे कि आपके फोन पर भेजा गया कोड।

संदिग्ध ईमेल से सावधान रहें:- अज्ञात प्रेषकों के ईमेल या अटैचमेंट न खोलें, और उन ईमेल से सावधान रहें जो आपसे लिंक पर क्लिक करने या व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने के लिए कहते हैं।

एंटीवायरस और एंटी-मैलवेयर सॉफ़्टवेयर का उपयोग करें:- अपने कंप्यूटर और उपकरणों को वायरस, स्पाईवेयर और अन्य दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर से बचाने के लिए एंटीवायरस और एंटी-मैलवेयर सॉफ़्टवेयर इंस्टॉल करें और नियमित रूप से अपडेट करें।

सोशल मीडिया पर ओवरशेयर न करें:- सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर व्यक्तिगत जानकारी साझा करने के बारे में सतर्क रहें, क्योंकि Cyber अपराधी इस जानकारी का उपयोग आपको घोटालों और फ़िशिंग हमलों से लक्षित करने के लिए कर सकते हैं।

सुरक्षित नेटवर्क का उपयोग करें:- सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क का उपयोग करने से बचें, जो अक्सर असुरक्षित होते हैं और आसानी से हैक किए जा सकते हैं। इसके बजाय, अपने इंटरनेट कनेक्शन को एन्क्रिप्ट करने और अपनी ऑनलाइन गोपनीयता की रक्षा करने के लिए वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) का उपयोग करें।

अपने डेटा का बैकअप लें:- अपनी महत्वपूर्ण फाइलों और डेटा का नियमित रूप से किसी बाहरी हार्ड ड्राइव या क्लाउड-आधारित स्टोरेज सेवा पर बैकअप लें, ताकि साइबर हमले या डेटा हानि के मामले में आप उन्हें आसानी से पुनर्प्राप्त कर सकें।
इन उपायों का पालन करके आप Online Fraud का शिकार होने के अपने जोखिम को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

साइबर अपराध के प्रकारों में शामिल हैं:-

  • ऑनलाइन धोखाधड़ी (online fraud) और फिशिंग आक्रमण (Phishing attack).
  • मोबाइल फोन वायरस, मैलवेयर( Malware) और ट्राजन होर्स.
  • वेबसाइट अपवाद(Website exception) और अधिकृत अधिकार उल्लंघन (Copyright infringement)
    अनुपयोगी ईमेल और स्पैम.
  • ऑनलाइन नक़दी लूट की धारणा (online cash loot concept).
  • इंटरनेट पर आपत्तिजनक सामग्री का वितरण और सेक्स तस्वीरों (Sex photos) के साथ बच्चों के अनाधिकारिक उपयोग।
  • ईमेल और इंटरनेट धोखाधड़ी.
  • पहचान धोखाधड़ी (जहां व्यक्तिगत जानकारी चोरी की जाती है और उपयोग की जाती है)।
  • वित्तीय या कार्ड भुगतान डेटा की चोरी।
  • कॉर्पोरेट डेटा की चोरी और बिक्री.
  • साइबरएक्सटॉर्शन (किसी खतरे वाले हमले को रोकने के लिए पैसे की मांग करना)।
  • रैंसमवेयर हमले (एक प्रकार का साइबर एक्सटॉर्शन)।
  • क्रिप्टोजैकिंग (जहां हैकर्स उन संसाधनों का उपयोग करके क्रिप्टोकरेंसी का खनन करते हैं जो उनके पास नहीं हैं)।
  • साइबर जासूसी (जहां हैकर्स सरकार या कंपनी के डेटा तक पहुंच बनाते हैं)।
  • सिस्टम में इस तरह से हस्तक्षेप करना कि नेटवर्क से समझौता हो जाए।
  • कॉपीराइट का उल्लंघन.
  • गैरकानुनी जुआ।
  • अवैध वस्तुओं को ऑनलाइन बेचना।
  • बाल अश्लीलता की मांग करना, निर्माण करना या अपने पास रखना।

भारत में साइबर क्राइम के लिए क्या कानून है?

 

भारत में इनसे निपटने वाला कानून सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम, 2000 (Information Technology (IT) Act 2000 है। यह कानून इलेक्ट्रॉनिक संचार का उपयोग करके किए गए लेनदेन के लिए कानूनी मान्यता प्रदान करने और साइबर अपराध के लिए कानूनी उपाय प्रदान करने के लिए अधिनियमित (Enacted) किया गया था।

आईटी अधिनियम कई साइबर अपराधों को परिभाषित करता है, जिसमें हैकिंग (hacking), कंप्यूटर स्रोत दस्तावेजों के साथ छेड़छाड़, डेटा चोरी (Data Theft) और ऑनलाइन अश्लील सामग्री का वितरण (Distribution of online pornography material) शामिल है। यह जुर्माना और कारावास सहित इन अपराधों के लिए दंड की रूपरेखा भी बताता है।

साइबर अपराध की विकसित प्रकृति के साथ बनाए रखने के लिए कानून में कई बार संशोधन किया गया है। 2008 में, IT संशोधन अधिनियम पारित किया गया था, जिसमें साइबर आतंकवाद, डेटा सुरक्षा और मध्यस्थ दायित्व से निपटने के लिए नए प्रावधान शामिल थे।

साइबर क्राइम से निपटने के लिए भारत सरकार ने साइबर क्राइम इन्वेस्टिगेशन सेल (CCIC) सहित विभिन्न एजेंसियों की भी स्थापना की है, जो साइबर अपराधों की जांच और मुकदमा चलाने के लिए जिम्मेदार है। गृह मंत्रालय (Home ministry) में एक Cyber crime division भी है, जो कानून प्रवर्तन एजेंसियों (law Enforcement Agencies) को तकनीकी और कानूनी (Technical and legal) सहायता प्रदान करता है और पुलिस अधिकारियों और जांचकर्ताओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करता है।

कुल मिलाकर, भारत में आईटी अधिनियम और संबंधित कानूनों और एजेंसियों का उद्देश्य इन Attacks से निपटने और व्यक्तियों और व्यवसायों को ऑनलाइन खतरों से बचाने के लिए एक कानूनी ढांचा प्रदान करना है।

भारत में साइबर क्राइम करने वालों को क्या सजा मिलती है?

आईटी अधिनियम (IT Act) के तहत विशिष्ट साइबर अपराध के लिए दंड के कुछ उदाहरण यहां दिए गए हैं:

धारा 43:- कंप्यूटर, कंप्यूटर सिस्टम आदि को नुकसान पहुंचाने पर जुर्माना
सजा: नुकसान के लिए मुआवजा, जिसमें तीन साल तक की कैद या 5 लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों शामिल हो सकते हैं।
धारा 66:- कंप्यूटर सिस्टम के साथ हैकिंग
सजा: तीन साल तक की कैद या 2 लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों।
धारा 66बी:- चुराए गए कंप्यूटर संसाधन या संचार उपकरण को बेईमानी से प्राप्त करने के लिए सजा
सजा: तीन साल तक की कैद या एक लाख रुपए तक का जुर्माना या दोनों।
धारा 66सी:- पहचान की चोरी के लिए सजा
सजा: तीन साल तक की कैद या एक लाख रुपए तक का जुर्माना या दोनों।
धारा 67:- इलेक्ट्रॉनिक रूप में अश्लील सामग्री को प्रकाशित या प्रसारित करने पर सजा
सजा: तीन साल तक की कैद या 5 लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों।
धारा 72:- गोपनीयता और निजता का उल्लंघन
सजा: दो साल तक की कैद या एक लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों।
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि साइबर अपराध की सजा अपराध की गंभीरता और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न हो सकती है। कुछ मामलों में, आईटी अधिनियम (IT Act) में उल्लिखित सजा से अधिक गंभीर सजा हो सकती है। उदाहरण के लिए, आईटी अधिनियम के तहत साइबर आतंकवाद आजीवन कारावास (Life imprisonment) से दंडनीय है।

कुल मिलाकर, भारत में Cyber Crime के लिए दंड (Punishment for cyber crime in india) का उद्देश्य साइबर अपराधियों को रोकना और व्यक्तियों और व्यवसायों को ऑनलाइन खतरों (Online risks) से बचाना है।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top